MAIN

Wednesday, July 11, 2018

SHIRSHASANA जानिए शीर्षासन की विधि, लाभ और सावधानियां

शीर्षासन :

 

  योगासन करने से हमारे शरीर को बहुत से फायदे मिलते है | योगासन में एक आसन है शीर्षासन | इस आसन को सिर के बल किया जाता है इसलिए इसे शीर्षासन कहा जाता हैं | शीर्षासन करते वक्त शरीर को सिर या हाथों के बल उल्टा किया जा सकता है | या अन्य शब्दों में कहे तो इसमें पुरे शरीर का संतुलन सिर या हाथों पर टिका होता है | 

शीर्षासन एक बहुत फायदेमंद आसन है जिसके करने से व्यक्ति बड़ी - बड़ी बीमारियों से दूर रहता है | हालांकि इस आसन करना काफी मुश्किल है | जो लोग योग के शुरूआती है उन्हें तो यह आसन सिखने में बहुत वक्त लगता है | 

इस आसन को वृक्षासन और कपालासन के नाम से भी जाना जाता है | इस आसन को करने से पहले योग चिकित्सक की सलाह जरूर ले लेना चाहिए क्योंकि यह आसन हर व्यक्ति के लिए सहज नहीं है | 

शीर्षासन करने का तरीका / विधि :

  • शीर्षासन करने के लिए  सबसे पहले तो एक समतल तथा साफ़ स्थान का चयन करे और उस पर कंबल या दरी बिछा ले | 
  • अब आप वज्रासन की अवस्था में बेथ जाएं, आपको इस तरह बैठना है की आगे की और झुकने केलिए आपके पास भरपूर जगह हो | 
  • इसके बाद आगे की और झुके और दोनों हाथों की कोहनियों को जमीन पर टिक दें और हाथों की उँगलियों को आपस में जोड़ ले 
  • अब दोनों हाथों की उँगलियों को मिला ले ताकि आप सिर को सहारा दे सके | फिर सिर को दोनों हथेलियों के मध्य धीरे-धीरे रखें | 
  • इस दौरान अपनी सांस सामान्य रखें | अब सिर को जमीन पर टिकाये और धीरे-धीरे शरीर का पुर भार सिर पर छोड़ते हुए शरीर को ऊपर की और उठाना शुरू करें | 
  • आप को शरीर क भर सिर पर लेना है | अब अपने शरीर को सीधा क्र लें | इसी अवस्था को शीर्षासन कहा जाता है | 


शीर्षासन के लाभ / फायदा :

 

  • शीर्षासन को नियमित रूप से करने से आप पाचन सबंधित बीमारियों से आप आसानी से निजात पा सकते है | 
  • शीर्षासन करते वक्त आप अपने सिर के बल खड़े होते हैं,इसलिए इस आसन को करते वक्त आपके शरीर में रक्त संचार निचे की तरफ होने लगता ही जिसके चलते चेहरे की तरफ रक्त संचार बेहतर हॉट है | उलटे खड़े होने के कारण ऑक्सीजन चेहरे की तरफ संचरित होता है | इसलिए जो लोग इस आसन को करता है उनकी त्वचा चमकदार हो जाती है | त्वचा का निचे की और लटकने के कारण इसे करने वाले लोगो की झुर्रियां गायब हो जाती हैं | 
  • इस आसन करने से स्मरण शक्ति काफी अधिक बढ़ जाती है | इसलिए विध्यार्थीयो को यह आसान जरूर करना चाहिए | इसे करने से आत्मविश्वास भी बढ़ता है और किसी भी प्रकार का डर मन से निकल जाता है | 
  • शीर्षासन करने से हमारे सिर के तरफ रक्त का संचाल बेहतर होता है जिससे आपके सफ़ेद बाल अपने आप ही काले होने लग जाते हैं | इसे करने से खून भी साफ होता है और पाचन तंत्र सुधरता है | 
  • शीर्षासन का अभ्यस्त करने से याददाश्त बढ़ाने में मदद मिलती हैं | 
  • इसके नियमित अभ्यास से शरीर को मजबूती मिलती है और शरीर हष्ट-पुष्ट बनता है 



शीर्षासन के दौरान सावधानिया :

  • पहेली बार शीर्षासन किसी योग विशेषज्ञ की देखरेख में ही करना चाहिए | 
  • यदि आप थोड़ा सा भी अस्वस्थ महसूस कर रहे तो आपको शीर्षासन नहीं करना चाहिए 
  • पहेली बार शीर्षासन के दौरान आप दीवाल का सहारा भी ले सकते है 
  • आपका रक्त चाप बहुत अधिक बढ़ा रहता है तो आपको शीर्षासन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए | 
  • अगर आपको गर्दन में दर्द है तो आपको शीर्षासन नहीं करना चाहिए | 
  • जिन लोगो को कम दिखाय देता है या आँखों सबंधित कोई बीमारी है तो उसको शीर्षासन नहीं करना चाहिए | 
  • शीर्षासन करने के बाद आपको कोई तकलीफ महसूस होती हो तो डॉक्टर या किसी योग विशेषज्ञ की सलाह लेना अति आवश्यक है | 
  • ये आसन आवेश और उत्साह में आके न करें | 
शीर्षासन करने का तरीका जानने के लिए यहा पे क्लिक कीजिये  

                             || धन्यवाद ||




No comments:

Post a Comment