सिंहासन

सिंहासन करने की सही विधि और लाभ :
विधि : 
वज्रासन में बैठकर सामने से दोनों घुटने एक से डेढ़ फुट खोलकर दोनों कलाईयों को परस्पर मिलाकर हाथों को सीधा करके उँगलियाँ और हथेलियाँ जमीन पर सटाकर, आगे झुककर भ्रूमध्य पर द्रष्टि करके, मुख खोलकर जीभा को यथाशक्ति बाहर निकालकर शेर की तरह आवाज करते हुए दहाड़ें | एक बार में न्यूनतम तीन बार इस क्रिया को करें, योगीजनों को प्रिय उह क्रिया 'सिंहासन' कहलाती है | 

योग के वीडियो देख ने केलिए यहाँ पे क्लिक कीजिये  
लाभ :
१) गले से सबंधित समस्त रोगों यथा-हकलाना, तुतलाना, टोन्सिल एवं आहारनली में कफ का जमना आदि रोगों में विशेष लाभप्रद है | 

२) फेफड़े मजबूत होते हैं, हाथ सुंदर व सुडौल बनते हैं |

सिंहासन सिंहासन Reviewed by Laxman on September 12, 2018 Rating: 5

No comments:

Theme images by funstickers. Powered by Blogger.